MediaManch-No.1 News Media Portal
अपनी ख़बर मीडिया मंच को भेजें

मेल आई डी: newsmediamanch@gmail.com
News Flash                  आप अपनी खबर newsmediamanch@gmail.com पर मेल करें।    
MediaManch-No.1 News Media Portal
मीडिया मंच टॉप 20
उदाहरण
"वो गाली दे रहा था रहा लेकिन मैं ले नहीं रहा था "
विस्तार से
यादें
'सनसनी' के १० साल
विस्तार से
अनुभव
बहुत नाशुक्रा काम है समीक्षा करना
विस्तार से
वार्षिक फ़िल्म समीक्षा
साल 2013-मेरी पसंद की 12 फिल्में -अजय ब्रह्मात्‍मज
विस्तार से
न्यूज़ ज़ोन
नवभारत टाइम्स
बीबीसी हिंदी
नईदुनिया
हिंदुस्तान दैनिक
प्रभात ख़बर
दैनिक भास्कर
दैनिक जागरण
अमर उजाला
आखिर वे कौन लोग हैं, जो चुटकले बना रहे हैं और तालियां पीटकर खुश हो रहे हैं?
( Date : 12-10-2015)


साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने का जो सिलसिला चल रहा है, उसे लेकर फेसबुक पर हो रही लतीफेबाजी क्या दर्शाती है? आखिर वे कौन लोग हैं, जो चुटकले बना रहे हैं और तालियां पीटकर खुश हो रहे हैं? पुरस्कारों की वापसी का जो सिलसिला शुरू हुआ है, उसके पीछे कोई लंबी चौड़ी कहानी नहीं है। देश में पिछले एक साल में कई लेखकों और चिंतकों की हत्या हुई है। कन्नड़ के प्रतिष्ठित लेखक एम.एम. कलबुर्गी को मार दिया गया।
पुरस्कार लौटाना ध्यान आकर्षित करने का एक तरीका है। उदय प्रकाश के बाद कई भाषाओं के लेखक पुरस्कार लौटा चुके हैं। अब ज़रा सोशल मीडिया पर रियेक्शन देखिये-- खाली ट्रॉफी लौटाई या पैसा भी लौटाया है? पब्लिसिटी स्टंट है, पंद्रह साल रखने के बात लौटाया तो कौन सा बड़ा काम किया। पब्लिसिटी स्टंट बताने वाले यह भी नहीं देखते कि पुरस्कार लौटाने वालों में कृष्णा सोबती की उम्र 90 साल और नयन तारा सहगल की उम्र 88 साल है। इस पूरी चर्चा में आपने कितनी बार वो सवाल सुने जो लेखक उठा रहे हैं? इल्जाम सिर्फ एक लाइन में यह है कि बढ़ रही असहिष्णुता को लेकर सरकार संवेदनशील नहीं है। अगर सरकार को लगता है कि समाज में असिहष्णुता नहीं बढ़ रही है या वह इस तरह की घटनाओं को लेकर संवेदनशील है तो फिर सामने आकर यह बता देने में क्या हर्ज है? आखिर सरकार लेखकों से यह क्यों नहीं कह पा रही है कि आप गलत हैं, बेकार का बखेड़ा खड़ा कर रहे हैं, हम अपना काम ठीक से कर रहे है। ऐसा ना कहने कि दो वजहें हैं। पहली बात यह कि सरकार के पास यह कहने की नैतिक ताकत नहीं है। दूसरी बात यह कि सरकार की नज़र में लेखकों की कोई औकात नहीं है।

वरिष्ठ पत्रकार राकेश कायस्थ के एफबी वॉल से 



First << 1 2 3 4 5 >> Last



नमूना कॉपी पाने या वार्षिक सदस्यता के लिए संपर्क करें +91 9860135664 या samachar.visfot@gmail.com पर मेल करें.
Media Manch
मीडिया मतदान
Que.



Result
MediaManch-No.1 News Media Portal