MediaManch-No.1 News Media Portal
अपनी ख़बर मीडिया मंच को भेजें

मेल आई डी: newsmediamanch@gmail.com
News Flash                  आप अपनी खबर newsmediamanch@gmail.com पर मेल करें।    
MediaManch-No.1 News Media Portal
मीडिया मंच टॉप 20
उदाहरण
"वो गाली दे रहा था रहा लेकिन मैं ले नहीं रहा था "
विस्तार से
यादें
'सनसनी' के १० साल
विस्तार से
अनुभव
बहुत नाशुक्रा काम है समीक्षा करना
विस्तार से
वार्षिक फ़िल्म समीक्षा
साल 2013-मेरी पसंद की 12 फिल्में -अजय ब्रह्मात्‍मज
विस्तार से
न्यूज़ ज़ोन
नवभारत टाइम्स
बीबीसी हिंदी
नईदुनिया
हिंदुस्तान दैनिक
प्रभात ख़बर
दैनिक भास्कर
दैनिक जागरण
अमर उजाला
ब्लॉगर क्लब
वरुण कुमार कि कहानी " दिल्ली की सड़कें और वो 10 दिन"( Date : 11-11-2013)

उस कमरे में हर ओर बिखरा था धुआं, शराब की गंध और कहकहों की आवाज़ें. सारे दोस्त आज विनीत के रूम पर इकट्ठा हुए थे. किसी के हाथ में सिगरेट थी तो किसी के हाथ में जाम, और किसी के हाथ में था हुक्के का पाइप.

शराब की महफिल में इश्क की किस्सागोई चल रही थी. सभी दोस्त अपने अपने किस्से सुना रहे थे. कोई हंस रहा था, कोई रो रहा था और कोई हंसने रोने वालों को चुप करा रहा था. बैकग्राऊंड में गुलाम अली साहब की आवाज़ सुनाई दे रही थी... खेंच लेना वो तेरा परदे का कोना दssफतन....

इस महफिल में एक शख्स ऐसा भी था जो किस्से सुन रहा था और ख्याल बुन रहा था. मेजबान विनीत खुद चुप था और सभी के किस्सों को गौर से सुन रहा था.

दरअसल ये सभी लोग इंजीनियरिंग की पढ़ाई खत्म करने के बाद एमबीए कर रहे थे और दिल्ली से सटे यूपी के एक इलाके में रह रहे थे.

अविनाश बाबू अपना किस्सा सुना रहे थे... अबे काऊच सफरिंग का नाम सुना है? पता है उस पर विदेश लड़कियां मिलती हैं?

चैटिंग होती है क्या? पीछे बैठे हिमांशु ने पूछा...

अबे नहीं दरअसल मामला थोड़ा अलग है.... अविनाश बात पूरी कर ही रहा था कि अचानक विक्रम ने उसकी बात काट दी.

कितना अलग है? कृप्या स्पष्टीकरण दें....

अबे या तो बात सुन लो या फिर खुद ही बोल लो... अविनाश झुंझलाया.

अच्छा अब बोल भी.... राठी बीच में बोला.

मामला ये है कि एक वेबसाइट है उस पर विदेशी लोग भारत में होस्ट ढूंढते हैं. अक्सर लड़कियां भी मिल जाती हैं. क्यों न हम भी किसी को होस्ट करें? अविनाश बोला...

यहां हम खुद कमाते नहीं हैं....पिताजी के पैसे पर पल रहे हैं... और लड़कियों को होस्ट करें? वाह जी वाह.... अजय बोला.

अबे तू बीच में मत बोल...भाई तू बता पूरी बात...हिमांशु ने अविनाश से कहा.

मेरा एक दोस्त है...पुणे में रहता है.... वो होस्ट करता है अक्सर विदेशी लड़कियों को....आंख मारते हुए अविनाश मुस्कुराया. उसी ने मुझे बताया था.

अच्छा जी, सिर्फ होस्ट ही करता है या और कुछ भी करता है? राठी ने भी आंख मारते हुए अविनाश से पूछा...

अबे उसका तो पता नहीं अपन लोग ट्राई करते हैं...

ट्राई बाद में करना पहले दारू पी लो.... विनीत बोला....

चलो जी चलो...गिलास रखो लाइन से.... इस बार आवाज़ रजत की थी.

बैक ग्राऊंड म्यूज़िक की आवाज़ तेज़ हो गई थी... गुलाम अली साहब.... हम को अब तक आशिकी का वो जमानाSSSSSयाद है.....

कुछ दिनों के बाद विनीत को काऊच सफरिंग पर एक रिक्वेस्ट आई. इज़राइल की एक लड़की थी नाम था नती और वो भारत घूमना चाहती थी. उसे तालाश थी एक होस्ट की...विनीत पर जाकर शायद उसकी तालाश खत्म हो गई थी.

लड़की 20 तारीख को भारत आ रही थी. उसके आने से पहले विनीत कुछ तैयारियां कर लेना चाहता था. उसने कुछ पैसे देकर अपने फ्लैट को साफ कराया और कुछ खाने पीने सा सामान भी फ्रिज में इकट्ठा किया.

20 तारीख भी जल्द ही आ गई और वो उसे लेने एयरपोर्ट पहुंचा. विनीत ने उसे देखा तो देखता ही रह गया. गोरा चिट्टा रंग, नीली आखें और सुनहरे रंग के घुंधराले बाल....उम्र 23-25 की रही होगी. मुलाकात काफी औपचारिक किस्म की थी. दोनों एक दूसरे को हैलो के अलावा कुछ न बोल पाए.

विनीत उसे लेकर अपने फ्लैट पर आ गया. उसे उसका कमरा दिखाया और उससे पूछा कि उसे क्या किसी चीज की ज़रूरत है.  नती ने कहा कि उसे चाय चाहिए...उसने इंटरनेट पर भारतीय चाय के बारे में काफी पढ़ा था.

विनीत ने उसके लिए चाय बनाई और फिर चाय की चुस्कियों के साथ चला बातचीत का दौर जो काफी देर तक चला. नती वहां एक स्कूल में पढाती थी, एक ट्रैवल ब्लॉग भी लिखती थी, तीन साल से भारत घूमने के लिए पैसा जमा कर रही थी. फिर भी उसे लगा कि पैसा कम है और इसीलिए उसने काऊच सफरिंग की सहायता ली. अगर होटल का पैसा बच जाएगा तो शायद वो ज्यादा घूम पाएगी.

लड़की बातों से शरीफ लग रही थी और विनीत उससे काफी इंप्रेस भी हो गया था. बात करते करते शाम हो गई थी तो उसने खाने के लिए पिज़्जा ऑर्डर कर दिया. नती लगातार उससे भारत और यहां की संस्कृति के बारे में पूछ रही थी. विनीत भी उसे बड़े चाव से भारत के बारे में बता रहा था. बातों बातों में अगले दिन दिल्ली घूमने की बात तय हो गई.

खाने के बाद विनीत ने नती को गुडनाइट बोला और दूसरे कमरे में सोने के लिए चला गया.

अगले दिन सुबह सूरज निकला और वो दोनों दिल्ली दर्शन पर. शुरूआत हुई लाल किले से. नती अपने निकॉन कैमरे से लाल किले की तस्वीरें उतार रही थी और विनीत से लाल किले के बारे में पूछ भी रही थी. विनीत उसे दिल्ली के लालकिले के साथ साथ आगरा के लाल किले तक की जानकारी दे रहा था और सोच रहा था कि बचपन में इतिहास पढने का कुछ तो फायदा हो रहा है.

इसके बाद चांदनीचौक में परांठे वाली गली के परांठे और जामा मस्जिद इलाके का नॉनवेज दोनों से तबियत भर खाया. नती भारत के लज़ीज भोजन की तारीफ कर रही थी और विनीत को भारतीय होने पर गर्व हो रहा था.

सुबह से शाम कब हो गई दोनों को पता ही नहीं चला. शाम को फ्लैट पर आकर दोनों अपने अपने कमरों में बेसुध होकर सो गए.

अगले दिन विनीत ने नती को पुराना किला और कुतुब मीनार दिखाए. कुतुब मीनार को देख कर नती हैरान थी. उसने खूब फोटो खीचीं और अपनी भी काफी फोटो विनीत से खिचाईं. अचानक विनीत को फोन पर एक मैसेज आया...उसे पढने के बाद वो नती से बोला कि क्या वो डिस्को चलना पसंद करेगी? नती ने हां बोल दिया.

रात के 10.30 बजे थे और विनीत की गाड़ी होटल शंग्रीला की ओर दौड़ रही थी. विनीत ने नती से पूछा कि क्या वो ड्रिंक करना चाहेगी? नती ने बोला हां लेकिन डिस्क में.... विनीत ने कहा ओके और चलती गाड़ी में अपने लिए पैग बनाने लगा.

नती ने उसे हैरानी से देखा और पूछा कि क्या चलती गाड़ी में पीना ठीक है? विनीत मुस्कुराया और कहा कि ये इंडिया है मैडम...यहां सब चलता है...

नती ने उसे रोका और कहा कि इज़राइल में ऐसा नहीं होता...और वैसे भी गाड़ी चलाते वक्त पीना ठीक नहीं.

विनीत ने उसकी बात मान ली और गाड़ी की रफ्तार बढा दी. चंद मिनटों में दोनों डिस्को के भीतर थे.

अंदर का माहौल अलग था.....कॉकटेल का गाना बज रहा था... मैं शराबी...मैं शराबी... मैं शराबी.... दर्जनों युवा जिस्म शराब से गर्मी पाने के बाद डांस फ्लोर पर थिरक रहे थे.

नती और विनीत भी चंद मिनटों के बाद डांस फ्लोर पर थे. नती को यूं बेपरवाह नाचते देख कर विनीत कुछ खो सा गया... कुछ ऐसे ही जैसे कॉकटेल में डायना पेंटी को देख कर सैफ खो जाता है.

रात को दो बजे दोनों फ्लैट पर वापस लौटे और अपने अपने कमरों में सो गए.

अगला दिन रहा क्नॉट प्लेस और करोल बाग के नाम. साथ में राजिंदर दे ढाबे का तंदूरी चिकन और एनएफसी पर अल बेक का शवर्मा.... नती दिल्ली की फोटो लगातार क्लिक कर रही थी. शाम को लैपटॉप पर दिल्ली की फोटो देखते हुए विनीत सोच रहा था कि दिल्ली वाकई इतनी खूबसूरत है या फिर फोटो में इतनी खूबसूरत लग रही है.

उस शाम दोनों ने काफी बातें कीं. तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है? विनीत ने पूछा

अगर होता तो उसके साथ आती अकेले थोड़े ही आ जाती....नती ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया.

अगले चंद दिन तक विनीत और नती दिल्ली घूमते रहे. अक्षरधाम से लेकर लोटस टेपल तक...बुद्धा गार्डन से लेकर हुमायूं के मकबरे तक और जंतर मंतर से लेकर संसद भवन तक....

वो सरोजनी नगर में मेहंदी लगवाती और विनीत उसकी तस्वीरें खींचता. वो नाथू स्वीट्स पर जलेबी खाते और नती भारत की तारीफें करती. वो करोलबाग की खस्ता खाते, बेड़मी पूरियां खाते और पूरे दिन घूमते. वो दिन दोनों ही को जीवन भार याद रहने वाले थे.

आखिर में वो दिन भी आया जब नती को जाना था.  वो पूरा भारत घूमना चाहती थी लेकिन जेब और वक्त दोनों इसकी इजाजत नहीं दे रहे थे. विनीत को भी उसका जाना अच्छा नहीं लग रहा था लेकिन उसे जाना तो था ही...

30 तारीख को विनीत उसे एयरपोर्ट छोड़ने पहुंचा.

उसे वापस तो जाना ही था, ये तय था....लेकिन वापसी की बेला इतनी जल्दी आ जाएगी इस बारे में सोचने का वक्त ही कहां मिला.... वो उसको जाने नहीं देना चाहता था लेकिन ये बात भी जानता था कि ऐसा हो नहीं सकता....

कई बार शब्दों से ज्यादा आंखें बात कर लेती हैं..... दोनों ने एक दूसरे को नज़र भर कर देखा.... दोनों की ही आखों के कोर में आंसू थे.... दोनों के अधर एक दूसरे से जुड़ गए... वो चंद क्षण शायद उनको जीवन भर याद रहने वाले थे. .... वो अब चली जाएगी... पता नहीं जीवन में दोबारा मुलाकात हो न हो....

दोनों ने एक दूसरे को बाहों में भर लिया. किसी ने किसी को आई लव यू नहीं कहा. शायद प्रेम को शब्दों के सहारे की ज़रूरत नहीं होती. वो चली गई...फिर आने का वायदे के साथ.

विनीत की गाड़ी वापस फ्लैट की ओर दौड़ रही थी. उसकी आंखों से आंसू बह रहे थे और दिमाग में चल रही थी यादों की तस्वीरें...क्लिक...क्लिक...क्लिक...

Varun Kumarयुवा पत्रकार वरुण कुमार के ब्लॉग से साभार 
ब्लॉगर क्लब



First << 1 2 3 4 5 >> Last



नमूना कॉपी पाने या वार्षिक सदस्यता के लिए संपर्क करें +91 9860135664 या samachar.visfot@gmail.com पर मेल करें.
Media Manch
मीडिया मतदान
Que.



Result
MediaManch-No.1 News Media Portal