MediaManch-No.1 News Media Portal
अपनी ख़बर मीडिया मंच को भेजें

मेल आई डी: newsmediamanch@gmail.com
News Flash                  आप अपनी खबर newsmediamanch@gmail.com पर मेल करें।    
MediaManch-No.1 News Media Portal
मीडिया मंच टॉप 20
उदाहरण
"वो गाली दे रहा था रहा लेकिन मैं ले नहीं रहा था "
विस्तार से
यादें
'सनसनी' के १० साल
विस्तार से
अनुभव
बहुत नाशुक्रा काम है समीक्षा करना
विस्तार से
वार्षिक फ़िल्म समीक्षा
साल 2013-मेरी पसंद की 12 फिल्में -अजय ब्रह्मात्‍मज
विस्तार से
न्यूज़ ज़ोन
नवभारत टाइम्स
बीबीसी हिंदी
नईदुनिया
हिंदुस्तान दैनिक
प्रभात ख़बर
दैनिक भास्कर
दैनिक जागरण
अमर उजाला
ब्लॉगर क्लब
बांग्लादेश में ब्लॉगर की जघन्य हत्या ( Date : 28-02-2015)



कट्रटरवादियों के खिलाफ लगातार अपने ब्‍लॉग के जरिये आवाज उठाने वाले अवजिीत रॉय की बांग्‍लादेश में मांस काटने वाले चाकू से गोद गोद कर सरेराह हत्‍या कर दी गईा इस हमले में उनकी पत्‍नी रफीदा अहमद बान्‍ना भी गंभीर रूप से घायल हैं, उनका ब्‍लॉग बांग्‍ला में हैhttp://www.mukto-mona.com/ लेकिन केवल विरोध दर्ज करवाने को इसे देखें जरूर, वैचारिक असहिष्‍णुता सारी दुनिया के सामने संकट है, कभी कोई कार्टूनिसट मारा जाता है तो कभी चित्रकार देश से निकाला जाता हौ तो कभी पत्रकार को नौकरी से बाहर कर दिया जाता है, सारी दुनिया में धर्म की रक्षा के नाम पर बढ रही यह अंधभक्ति एक तार्किक व वैज्ञानिक समाज के निर्माण में सबसे बडा खतरा है, जो लोग धर्म व आस्‍था के नाम पर गरीब, अनपढों को ठगते हैं, अविजीत जैसे लोगो के विचार उनके लिए खतरा होते हैं

हमले में रफीदा भी घायल हैंा अविजीत बांग्‍लादेश के मूल निवासी थे और उन्‍हें अमेरिका की नागरिकता मिल गई थी वे अपनी दो किताबों के विमोचन के सिलसिले में 17 फरवरी को ढाका पुस्‍तक मेला में आए थे
एक कट्रटर मुल्‍लों व इस्‍लाम तथा मानवता के दुश्‍मन 'अंसार बांग्‍ला'' नामक लफंगों के समूह ने इस हमले की जिम्‍मेदारी ली है व ढाका यूनिवर्सिटी में इसके पोस्‍टर लगा कर खुशी का इजहार किया है

एक बेहतरीन दुनिया बनाने के लिए आईए इस हमले की निंदा करें, केवल फेसबुक पर नहीं, अपने परिवार, पडोस को इस हादसे की जानकारी दें व बताएं कि कट्रटरपंथ व असहिष्‍णुता किस तरह विकास, शांति, शिक्षा की दुश्‍मन है, जरूरी नहीं कि कोई सभा करें, याद करें कि कितने दशको ंपहले स्‍वामी दयानंद ने मंदिर में चूहे को घूमता देखकर कह दिया था कि जो प्रतिमा अपनी रक्षा एक चूहे से नहीं कर सकती, वह इंसान को क्‍या बचाएगी, उनकी विचारधारा भी देश में जीवतं है, उनके अनुयायी हैं व हिंदू कहलाते हैं हमारी असल संस्‍क़ति यही है विरोधी विचारों को सहेजने व समझने की 
शर्म शर्म मुल्‍लों शर्मा शर्म कट्रटरपंथी शर्म शर्म


जाने  - माने ब्लॉगर  और  लेखक पंकज चतुर्वेदी  के एफबी   वॉल से 

ब्लॉगर क्लब



First << 1 2 3 4 5 >> Last



नमूना कॉपी पाने या वार्षिक सदस्यता के लिए संपर्क करें +91 9860135664 या samachar.visfot@gmail.com पर मेल करें.
Media Manch
मीडिया मतदान
Que.



Result
MediaManch-No.1 News Media Portal