MediaManch-No.1 News Media Portal
अपनी ख़बर मीडिया मंच को भेजें

मेल आई डी: newsmediamanch@gmail.com
News Flash                  आप अपनी खबर newsmediamanch@gmail.com पर मेल करें।    
MediaManch-No.1 News Media Portal
मीडिया मंच टॉप 20
उदाहरण
"वो गाली दे रहा था रहा लेकिन मैं ले नहीं रहा था "
विस्तार से
यादें
'सनसनी' के १० साल
विस्तार से
अनुभव
बहुत नाशुक्रा काम है समीक्षा करना
विस्तार से
वार्षिक फ़िल्म समीक्षा
साल 2013-मेरी पसंद की 12 फिल्में -अजय ब्रह्मात्‍मज
विस्तार से
न्यूज़ ज़ोन
नवभारत टाइम्स
बीबीसी हिंदी
नईदुनिया
हिंदुस्तान दैनिक
प्रभात ख़बर
दैनिक भास्कर
दैनिक जागरण
अमर उजाला
हलचल
समाज ही नही राजनीति को भी दिशा देता है मीडिया : मुलायम सिंह यादव( Date : 11-11-2014)

-


Displaying 2.jpg
लखनऊ: बदलते दौर में सोशल मीडिया की प्रासंगिकता बढ़ रही है। आज के दौर में इसे नजरअंदाज कर न तो राजनीति संभव है और न ही सरकार चलाना। पूर्व रक्षा मंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने यह विचार इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट (आईएफडब्लूजे) की ओर से �सोशल मीडिया-वरदान या अभिशाप� विषय पर आयोजित राष्ट्रीय परिसंवाद में व्यक्त किए। राजनीति के शुरुआती दिनों को याद करते हुए श्री यादव ने कहा कि कई बार कहा कि मीडिया ने उनके खिलाफ खबरे छापी पर उन्होंने इसे अपनी सहज आलोचना के रुप में ही लिया। उन्होंने कहा कि आज लोगों तक समाचारों की पहुंच आसान हुयी है। कुछ ही पलों में राजधानी में हो रही घटना से गांवों के लोग वाकिफ हो जाते है। पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि अखबारों के संपादकीय निष्पक्ष होते हैं और वो हर रोज इसे जरुर पढ़ते हैं। श्री यादव ने इस मौके पर आईएफडब्लूजे के राष्ट्रीय अध्यक्ष के विक्रम राव की वेबसाइट ूूूणअपातंउतंवण्बवउ का विमोचन भी किया। वेबसाइट मंे श्री राव की 5 किताबें, 500 से अधिक लेख, परिचय और तस्वीरों का प्रस्तुतिकरण किया गया है। 
परिसंवाद में बोलते हुए आल इंडिया रेलवे मेन्स फेडरेषन के राष्ट्रीय महामंत्री शिवगोपाल मिश्रा ने कहा कि मीडिया सरकारों को आईना दिखाने का काम करता है। उन्होंने कहा कि आज किसी भी सरकार के लिए मीडिया को नजरअंदाज करना आसान नही रह गया है।
वरिष्ठ पत्रकार सिद्धार्थ कलहंस ने सोशल मीडिया के बढ़ते हुए प्रभाव पर रौशनी डालते हुए कहा कि सोशल मीडिया संचार का लगभग एक दशक पुराना माध्यम है. उन्होंने कहा की इसका प्रचलन तब तेजी में आया जब 2008 में फेसबुक नाम की सोशल वेबसाइट अस्तित्व में आई.। उन्होंने कहा कि आज सोशल साईट पर तीन तरह की जमात देखने को मिल रही है पहली वो जो उनका उद्देश्य साम्प्रदायिकता को बढ़ावा देना है दूसरी जमात उनकी जो साम्प्रदायिकता की विरोध में खड़े है और तीसरी जमात उस दलित चिन्तक वर्ग की है जो सदियों से मीडिया एक वर्ग के लिए उपेक्षित रहा है. सोशल मीडिया ने ऐसे उपेक्षित वर्ग को एक प्लेटफार्म दिया जहाँ आकर वो अपनी बात रखते है. इसलिए सोशल मीडिया एक वरदान ही है.
इंडियन फेडरेषन आॅफ वर्किंग जर्नलिस्ट के अध्यक्ष के. विक्रम राव ने अपनी 40 वर्ष के पत्रकारीय जीवन के अनुभव करते हुए कहा कि हमारे समय में सूचनाओ का संवहन बड़ा मुश्किल था. सोशल मीडिया जैसा कोई भी माध्यम मौजूद नहीं था. आज सूचनाओ का संवहन सुगम है. ख़बरें तेजी से इधर से उधर भेजी जा सकती है और ये इसलिए संभव है क्योकि सोशल मीडिया पर आम आदमी की पहुच है. उन्होंने कहा कि हालाँकि अभी सोशल मीडिया को नियंत्रित करने की आवश्यकता है क्योकि जहाँ एक तरफ सकरात्मक उपयोग है वही इसका नकरात्मक उपयोग किया जा रहा है.
श्रोताओं में बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक शामिल थें। गोष्ठी में प्रमुख रूप से वरिष्ठ पत्रकार हेमंत तिवारी, अधिवक्ता पदम कीर्ति, हिन्द मजदूर सभा के सचिव उमाषंकर मिश्र यूनियन के पदाधिकारी हसीब सिद्धीकी, श्याम बाबू, विनीता रानी, उत्कर्ष सिन्हा ने सहभागिता करी एवं मंच का संचालन योगेष मिश्र ने किया।
प्रेस रिलीज 
हलचल



First << 1 2 3 4 5 >> Last



नमूना कॉपी पाने या वार्षिक सदस्यता के लिए संपर्क करें +91 9860135664 या samachar.visfot@gmail.com पर मेल करें.
Media Manch
मीडिया मतदान
Que.



Result
MediaManch-No.1 News Media Portal