MediaManch-No.1 News Media Portal
अपनी ख़बर मीडिया मंच को भेजें

मेल आई डी: newsmediamanch@gmail.com
News Flash                  आप अपनी खबर newsmediamanch@gmail.com पर मेल करें।    
MediaManch-No.1 News Media Portal
मीडिया मंच टॉप 20
उदाहरण
"वो गाली दे रहा था रहा लेकिन मैं ले नहीं रहा था "
विस्तार से
यादें
'सनसनी' के १० साल
विस्तार से
अनुभव
बहुत नाशुक्रा काम है समीक्षा करना
विस्तार से
वार्षिक फ़िल्म समीक्षा
साल 2013-मेरी पसंद की 12 फिल्में -अजय ब्रह्मात्‍मज
विस्तार से
न्यूज़ ज़ोन
नवभारत टाइम्स
बीबीसी हिंदी
नईदुनिया
हिंदुस्तान दैनिक
प्रभात ख़बर
दैनिक भास्कर
दैनिक जागरण
अमर उजाला
रेडियो एफ एम
रेडियो, आई रियली मिस यू..( Date : 13-02-2014)

रेडियोआई रियली मिस यू.. ..आज विश्व रेडियो दिवस है..
****************************************
आज रेडियो को बहुत लोग मिस कर रहे होगें.....मैं भी कर रहा हूं....विविध भारती पे भूले बिसरे गीत...,पटना रेडियो का मुखिया जी का चौपाल.....साढ़े सात बजे प्रदेशिक समाचार सुनने के लिए गांव के दालान पर बुजुर्गो की बैठकी और फिर समाचारों पर बहस....मां का रेडियो पर लोकगीत कार्यक्रम में शारदा सिन्हा जैसे कलाकारों से कजरीचौता का सुनना......और फिर बीबीसी हिन्दी पर समाचार सुनने वाले गांव के बौद्विक और जागरूक लोगों में शामील होना....सबकुछ बहुत मिस कर रहा हूँ। और बिनाका गीत माला... ओह ओह अमीन शयानी की दिलकश आवाज....रियली मिस....यार..और क्रिकेट की कॉमेंट्री...आज कहाँ वाह बात ...

और मिस कर रहा हूँ घर की खिड़की पर रेडियो बजा कर अपनी प्रेमिका तक अपने दिल की बात को पहूंचाना। जाने क्यों रेडियो से मेरा अपनापा था और वह मेरे दिल की बात समझ कर ही बजा करती। जब प्रेम के ईजहार का मन होता तो गीत बजता....हमे तुमसे प्यार कितना ये हम नहीं जानतेमगर जी नहीं सकता तुम्हारे बिना....

और रोमांटिक मूड में कजरा मोहब्बत बालाअंखियों में ऐसा डाला, डमडम डिगा डिगा। और फूल वैल्युम में मीना ओ मीना.. दे दे प्यार दे प्यार दे प्यार दे रे जब बजता तो प्रियतम रीना का गुस्सा सातबें आसमान पर होता....बाबा बनो ही।

और जब प्रियतम गुस्से में होती या नाराज होती तो रेडियो उसे मनाता  तुम रूठा न करोमेरी जानमेरी जान निकल जाती है...।

जब मैं गुस्से में होता या नाराज होता तो रेडियो प्रियतम तक मेरे दिल की बात इस तरह पहूंचाता तेरी गलियों में न रखेगें कदम आज के बाद.... या फिर चांदी की दिवार न तोड़ी प्यार भरा दिल तोड़ दिया।

और निराश के उस क्षण में जब जीवन का होना न होने जैसा लगा तो रेडियो ने आहिस्ते से मां की तरह लोरियां सुनाई....तुमको चलना होगातुमको चलना होगा...,  रूक जाना नहीं तुम कहीं हार केओ राही ओ राही तुमसे नाराज नहीं जिन्दगी हैरान हूँ मैं

और जिन्दगी के उस मोड़ पर जब प्रेम या कैरियर का चुनाव करना था तो रेडियो का गीत दिल उसे दो जो जान दे दे का अन्तरा  जो सोंचते रहोगे तो काम न चलेगाजो बढ़ते चलोगे तो रास्ता मिलेगा ने प्रेम के चुनाव का साहस दिया।

आज भले ही हाई टेक जमाना है पर रेडियो को पिछड़ने के लिए छोड़ दिया गया है। मोबाईल में आज भी रेडियो एफएम ही बजती है पर वह भी सिर्फ महानगरों मेंग्रामीण ईलाकों में रेडियो मोबाइल पर नहीं बज पाताइससे मैं खासा दुखी रहता हूँ। स्मार्ट मोबाइल के लिए भी कोई बढ़िया ऐप्स नहीं है। और बाजार में बिकने वाला रेडियो भी ठीक से फ्रिक्येन्सी नहीं पकड़ता।

हलांकि मैं आज भी अपनी सुबह की शुरूआत रेडियो के साथ ही करता हूँ और डीटीएच पर रेडियो लगा कर सुबह पांच बजे जगने के साथ ही नौ बजे तक घर से निकलने तक सुनता हूँ पर फिर भी मिस कर रहा हूँ..बहुतदिल से
.


बिहार , शेखपुरा के पत्रकार अरुण साथी के  ब्लॉग से साभार 

रेडियो एफ एम



First << 1 2 3 4 5 >> Last



नमूना कॉपी पाने या वार्षिक सदस्यता के लिए संपर्क करें +91 9860135664 या samachar.visfot@gmail.com पर मेल करें.
Media Manch
मीडिया मतदान
Que.



Result
MediaManch-No.1 News Media Portal